Uncategorized

IIT Kya Hai ?? IIT Ka Itihas, JEE exam 2019 Full Details In Hindi

IIT

हेलो दोस्तों! स्वागत है आपका हमारे इस पोस्ट में जहाँ हम आपके लिए ले कर IIT के बारे में पूरी जानकारी। हर इंजीनियरिंग स्टूडेंट का सपना होता है कि वो अपनी इंजीनियरिंग IIT  से करे। आप भी चाहते होंगे अपनी ग्रेजुएशन आई आई टी से करने का या फिर आप सोच रहे हो आई आई टी से पढ़ने का तो इसलिए में हमारे साथ अंत तक बने रहिये। आज हमे आपको बताने वाले है कि IIT क्या है ? उसका इतिहास क्या है और भी बहुत कुछ आई आई टी के बारे में।

IIT Full Form – Indian Institute of Technology

IIT meaning in Hindi : भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान|

IIT क्या है ? :

IIT Details

आईआईटी भारत की मुख्य शिक्षण संस्थानों में से एक है। ये संस्थान भारत सरकार द्वारा किये गए ” राष्ट्रीय महत्व के संस्थान है”

आईआईटी भारत में उच्च शिक्षा प्रदान करने के लिए काफी प्रख्यात है ये एक autonomous Public institution है जो कि Ministry of Human Resource Development के अंतर्गत आता है और इंजीनियरिंग के लिए पुरे भारत में ये बेस्ट संस्थान है in terms of quality and standards.  और यहाँ से की गई इंजीनियरिंग की काफी एहमियत है|

आईआईटी इंजीनियरिंग के आलावा भी काफी कोर्सेज करवाती है आईआईटी में ग्रेजुएशन, पोस्ट ग्रेजुएशन और यहाँ तक कि पीएचडी के कोर्सेज भी मिलेंगे जो कि आइएआइटी करवाती है  जिनकी जानकारी हम आपको देंगे। आइये उस से पहले जानते है की आईआईटी कितनी है |

Also Read : CBSE Board Exams

IIT Colleges In India

भारत में आईआईटी संस्थान है जिसके बारे में निचे बताया गया है|

भारतीय प्रोद्योगिकी संस्थान खड़गपुर                     West Bengal               1951

भारतीय प्रोद्योगिकी संस्थान मुंबई                            Maharashtra               1958

भारतीय प्रोद्योगिकी संस्थान कानपुर                        Uttarpradesh              1959

भारतीय प्रोद्योगिकी संस्थान मद्रास                          Tamil Nadu                 1959

भारतीय प्रोद्योगिकी संस्थान दिल्ली                          Delhi                           1963

भारतीय प्रोद्योगिकी संस्थान गुवाहाटी                      Assam                         1994

भारतीय प्रोद्योगिकी संस्थान रुड़की                         Uttarakhand               2001

भारतीय प्रोद्योगिकी संस्थान रोपड़                           Punjab                        2008

भारतीय प्रोद्योगिकी संस्थान भुवनेश्वर                       Odisha                        2008

भारतीय प्रोद्योगिकी संस्थान गांधीनगर                     Gujarat                        2008

भारतीय प्रोद्योगिकी संस्थान हैदराबाद                      Telangana                   2008

भारतीय प्रोद्योगिकी संस्थान जोधपुर                        Jodhpur                      2008

भारतीय प्रोद्योगिकी संस्थान पटना                           Bihar                           2008

भारतीय प्रोद्योगिकी संस्थान इंदौर                           Madhya Pradesh        2009

भारतीय प्रोद्योगिकी संस्थान मंडी                            Himachal Pradesh      2009

भारतीय प्रोद्योगिकी संस्थान वाराणसी                      Uttar Pradesh              2012

भारतीय प्रोद्योगिकी संस्थान पलक्कड़                     Kerala                          2015

भारतीय प्रोद्योगिकी संस्थान तिरुपति                       Andhra Pradesh          2015

भारतीय प्रोद्योगिकी संस्थान धनबाद                        Jharkhand                   2016

भारतीय प्रोद्योगिकी संस्थान भिलाई                         Chhattisgarh               2016

भारतीय प्रोद्योगिकी संस्थान गोवा                            Goa                             2016

भारतीय प्रोद्योगिकी संस्थान जम्मू                            Jammu and Kashmir   2016

भारतीय प्रोद्योगिकी संस्थान धारवाड़                       Karnataka                   2016

 

History Of IIT In Hindi (आईआईटी का इतिहास)

भारत सरकार की उच्चाधिकार प्राप्त समिति जिसके अध्यक्ष एक व्यवसायी, उद्योगपति और सार्वजनिक व्यक्तित्व सर नलिनी रंजन सरकार थे, उन्होंने ने 1946 में देश में तकनीकी शिक्षा के विकास के लिए दिशा निर्धारित करने हेतु यूरोप और संयुक्त राज्य में उनके  प्रतिरूप  समान श्रेणी के चार उच्च प्रौद्योगिकी संस्थान की स्थापना की सिफारिश  की ।

समिति ने भारत के विभिन्न क्षेत्रों में राष्ट्रीय महत्व के संस्थानों की स्थापना की सिफारिश की थी ।  इन सिफ़ारिशों को ध्यान में रखते हुए पहले भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान की स्थापना कलकत्ता के पास स्थित खड़गपुर में 1950 में हुई। शुरुआत में यह संस्थान हिजली कारावास में स्थित था। 15 सितंबर 1956 को भारत की संसद नें “भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान अधिनियम” को मंज़ूरी देते हुए इसे “राष्ट्रीय महत्व के संस्थान” घोषित कर दिया।

 

असम में छात्र आंदोलन के चलते भारतीय प्रधानमंत्री राजीव गान्धी नें असम में भी एक भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान की स्थापना का वचन दिया जिसके परिणाम से 1994 में गुवाहाटी में आई आई टी की स्थापना हुई। सन 2002 में रुड़की स्थित रुड़की विश्वविद्यालय को भी भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान का दर्जा दिया गया।

 

पिछले कुछ सालो में, भारत में नई आईआईटी स्थापना में काफी विकास हुआ है अक्टूबर 2003 में अटल बिहारी वाजपेयी जो की उस समय के प्रधानमंत्री थे, उन्होंने नई आईआईटी की स्थापना का वचन दिया था जिसके तहत पांच नई आईआईटी की स्थापना हुई थी और आज से कुछ साल पहले फिर से कुछ राज्यों में आईआईटी की स्थापना हुई है  | आईआईटी को अक्सर China’s Tsinghua University and South Korea’s Korea Advanced Institute of Science and Technology से compare  किया जाता है । 23 आईआईटी में से 10 आईआईटी की स्थापना 2004 के बाद हुई है ।

Also Read : Career Options After 12th Science 

आईआईटी में दाखिला के लिए क्या करे ??

आईआईटी से अपनी ग्रेजुएशन, पोस्ट ग्रेजुएशन करना आज एक स्टूडेंट का सपना है। स्टूडेंट्स कड़ी म्हणत करते है आईआईटी में पढ़ने के लिए लेकिन कुछ ही स्टूडेंट्स सेलेक्ट होते है जिन्हे मौका मिलता है की वो आईआईटी से पढ़ सकते है बाकि विफल हो जाते है। दोस्तों अब हम आपको बताते है कि कैसे आप आईआईटी में एडमिशन ले सकते हो ? आइये जानते है |

IIT Full information In Hindi

iit_roorkee

प्रवेश शिक्षा पैटर्न :

आईआईटी से ग्रेजुएशन करने के लिए आपको आईआईटी द्वारा कराय गए पेपर को क्लियर कर इंजीनियरिंग करने का मौका मिलता है। इस exam का नाम होता है JEE जो कि दो भाग में लिया जाता है।

पहला होता है JEE Mains जो स्टूडेंट्स इसे क्लियर करते है उन्हें ही आगे आने का मौका मिलता है और वे ही JEE Advance देते है और Advance में नंबर आने के बाद आपको आईआईटी में एडमिशन मिल जाता है । अब कोनसा आईआईटी आपको मिलेगा ये आपके advance की rank बताती है और साथ ही काउंसलिंग के समय आप कोनसी आईआईटी को प्रायोरिटी देते हो।

Eligibility criteria : आपको JEE  का पेपर देने से पहले उसकी  Eligibility पूरी करना बहुत ही ज़रूरी है। जिसकी Eligibility होती है 12th पास होना ज़रूरी है और साथ ही आपके 12th में 60 % आय हो तब आप JEE के लिए अप्लाई कर सकते है।

JEE exam subjects :

अब हम बात करते है कि कौन कौन से subjects आते है JEE में

  1. Physics
  2. Chemistry
  3. Maths

Also Read : 12th Ke Baad Kya kare ??

IIT ki tayari Kaise Kare :

दोस्तों चाहे कोई भी एंट्रेंस एग्जाम हो अगर आप सही तरह से तयारी करते हो तो आप हर एक एंट्रेंस को क्लियर कर अपना मनपसंदीदा कोर्स कर सकते हो लेकिन जहाँ बात आती है तो अक्सर बच्चे कंफ्यूज हो जाते है की वे तयारी कैसे करे तो चलिए हम आपको बताते है की किस तरह से तयारी आपको करनी चाहिए जिससे आप JEE को crack कर आईआईटी से अपनी इंजीनियरिंग कर सकेंगे।

  1. फोकस रहे : दोस्तों अक्सर देखा गया है की स्टूडेंट्स तयारी करते समय शुरुवात में अपना पूरा ज़ोर लगते है लेकिन अंत में आते आते उनका फोकस डगमगा जाता है जिसके कारण वे फेल हो जाते है इसलिए अपना फोकस पूरी तयारी के समय बने रखे।

फोकस और मन से पढ़ाई करे ताकि जितना भी समय आप अपनी पढ़ाई में दे वो व्यर्थ न जाए।

 

  1. टाइम मैनेजमेंट : दोस्तों आप कोई भी एंट्रेंस एग्जाम के लिए प्रेपर कर ले जब तक आप अपने टाइम को मैनेज करना नहीं सीखेंगे तब तक आप कुछ नहीं कर सकते। अपने अक्सर देखा होगा कि कुछ स्टूडेंट्स पिछले तीन या चार साल से लगातार तैयारी कर रहे होते है लेकिन उनका सिलेक्शन नहीं होता।

लेकिन वही एक स्टूडेंट जिसने सिर्फ और सिर्फ एक साल तैयारी की होती वो सिलेक्शन ले जाता है ये सिर्फ होता है टाइम मैनेजमेंट के कारण क्योंकी भले ही आपको प्रश्न काम आते है लेकिन अगर आप उन प्रश्न को सही तरह से मैनेज कर पा रहे हो तो आप ज़रूर सेलेक्ट होंगे वरना आप वही के वही रह जायँगे ।

 

  1. दोस्तों JEE exam 2019को crack करने में पिछले साल के question papers का बहुत बड़ा रोल होता है क्योकि वहां से आपको आईडिया लग जाता है कि आपको एग्जाम में अच्छे नंबर लाने के लिए किस चीज़ पर फोकस करना चाहिए और किस पर नहीं और काफी बार तो एग्जाम में last year questions भी repeat होते है। इसलिए तैयारी करते समय पिछले साल के पपेर्स को करना न भूले|।

 

दोस्तों IIT Full Details In Hindi समझ आई होंगी और साथ ही आपको इस पोस्ट से हेल्प मिली होगी इसलिए अपने आप इस पोस्ट को अपने दोस्तों के साथ भी शेयर करे और अपना कीमती समय देने के लिए धन्यवाद।

About the author

Bilson Mandela

Leave a Comment