Good Friday

जानिए गुड फ्राइडे क्यों मनाते हैं और गुड फ्राइडे मनाने का महत्व

Good Friday Information in Hindi
Good Friday Information in Hindi
-विज्ञापन-

Good Friday in Hindi – जानिए गुड फ्राइडे क्यों मनाते हैं और गुड फ्राइडे मनाने का महत्व क्या है?

बाइबिल के अनुसार आज से करीबन 2 हज़ार वर्ष पूर्व इसाई धर्म के प्रवर्तक यशु मसीह को जिस दिन सूली पर चढ़ाया गया था, और यह दिन शुक्रवार यानिकी फ्राइडे था. तभी से इस दिन को गुड फ्राइडे के नाम से मनाया जाता है.

प्रति वर्ष गुड फ्राइडे अंग्रेज़ी कैलेंडर के हिसाब से प्रायः अप्रैल के महीने में पड़ता है, परन्तु good friday 2018 – 30 मार्च को है.

धरती पर बढ़ रहे अत्याचार और पाप के लिए बलिदान देकर निःस्वार्थ प्रेम की पराकाष्ठा का उदाहरण प्रस्तुत करते हुए ईसा मसीह ने अमानवीय यातनाएं सहते हुए मानवता के लिए अपने प्राण त्याग दिए. इसलिए गुड फ्राइडे को होली फ्राइडे और ग्रेट फ्राइडे भी कहा जाता है. काफी लोग इसे ब्लैक फ्राइडे भी कहते हैं.

-विज्ञापन-

चलिए दोस्तों अब जानते हैं कि what happened on good friday और इसके साथ ही जानते हैं why it is called good friday हिन्दी में.

Good Friday History in Hindi Language

Good Friday Information in Hindi

Good Friday Images

जब यशु करीबन 30 वर्ष के हुए तो वो यरुशलम के गैलिली प्रांत के नासरत निवासी होने के कारण वहाँ के लोगों को मानवता, भाईचारा, एकता और शांति का उपदेश देकर लोगों में परमपिता परमेश्वर में आस्था जगाने लगे.

जब लोगो ने उनसे पूछा की आप कौन हो तब उनका जवाब था – मै ईश्वर का पुत्र हूँ और इसलिए ही वो परमेश्वर के राज्य के आगमन और स्थापना की बातें करते हैं. इसके साथ-साथ उन्होंने धार्मिक अंधविश्वास फैलाने वाले धर्मगुरुओं को मानव जाति का शत्रु बताया.

दिन प्रतिदिन ईसा की लोकप्रियता गैलिली में बढती ही जा रही थी, लोगो का धर्म गुरु से विश्वास हट कर अब यशु पर होने लगा था. धीरे-धीरे यह धर्मगुरुओं के लिए एक चिंता जनक विषय बनने लगा.

इन चीजों को देखते हुए उन्होंने(धर्मगुरूओ) रोम के शासक को पिलातुस के कान भरने शुरू किए, उन्होंने बताया कि स्वयं को ईश्वरपुत्र बताना भारी पाप है और वह परमेश्वर के राज्य की बात करता है.

पिलातुस ने यशु को पहले बंदी बनाया और फिर निर्णय लिया की वो कोड़े मार कर उनको रिहा कर देंगे, लेकिन धर्म गुरुओ से यह बात हज़म ना हुई और उन्होंने उनके और कान भर कर उनको सलीब (क्रूस) पर लटकाने के लिए कहा.

इतना ही नहीं……अनेक अत्याचार करने के बाद उनको बेरहमी से कीलों से ठोक दिया गया (What Happened on Good Friday)

क्रूस पर लटकाए जाने से पूर्व ईसा को अनेक तरह की अमानवीय यातनाएं दी गईं-

  1. उनके सिर पर कांटों का ताज रखा गया.
  2. क्रूस को अपने कंधे पर उठाकर ले जाने के लिए बाध्य किया गया.
  3. कोड़ों और चाबुक लगाए गए.
  4. उनपर थूका गया.
  5. पित्त मिला हुआ शराब पीने को दिया गया.

और अंततः दो अपराधियों के साथ सूली (सलीब/क्रूस) पर बेरहमी से कीलों से ठोक दिया गया.

Good Friday Images

Good Friday Images

गुड फ्राइडे का महत्व…

ईसाई धर्मावलम्बियों के लिए गुड फ्राइडे का दिन विशेष महत्व रखता है, आइये जानते हैं क्या – क्या किया जाता है इस दिन –

  1. ईसा मसीह के इस बलिदान के लिए कई लोग 40 दिन तक उपवास भी रखते हैं, जो ‘लेंट’ कहलाता है.
  2. कई केवल good friday यानिकी सिर्फ शुक्रवार के दिन ही व्रत रखकर प्रेयर (प्रार्थना) करते हैं.

गुड फ्राइडे का यह दिन प्रभु ईसा के उपदेशों और उनकी शिक्षाओं और वचनों को न केवल याद करने का दिन है, बल्कि उन्हें अमल लाने के लिए खुद को और दुसरो को भी प्रेरित करने का दिन भी है.

सलीब पर लटकाए जाने के बाद मृत्यु पूर्व यशु मसीह के मार्मिक और हृदयग्राही शब्द थे- ‘हे ईश्वर इन्हें क्षमा करें, क्योंकि ये नहीं जानते कि ये क्या कर रहे हैं’.

ईसा की मृत्यु से पहले के कुछ अंतिम शब्द-

6 घंटे तक सूली पर लटके रहने के बाद जब ईसा अपने प्राण त्याग रहे थे तो, उन्होंने ऊंची आवाज में परमेश्वर को पुकारा और कहा- ‘हे पिता! मैं अपनी आत्मा को तेरे हाथों सौंपता हूं.’ ऐसा कहने के साथ ही, उन्होंने अपने प्राण त्याग दिए.

माना जाता है कि जिस जगह ईसा को सलीब पर चढ़ाया गया था, बाइबिल के अनुसार, वह स्थान गोलगोथा नामक एक ऊंची टेकरी (टीला) था.

ईसा के प्राण त्यागते समय की विचित्र घटनाएं जिसने गैलिली के लोगो को इस बात पर विश्वास करने पर मजबूर कर दिया की हाँ यही है इश्वर के पुत्र-

बाइबिल के अनुसार, उनके सलीब पर चढ़ाए जाने के आखिरी तीन घंटों के दौरान

  1. दोपहर से अपराह्न 3 बजे तक पूरे देश में अंधेरा छाया रहा.
  2. जब एक चीख के बाद ईसा मसीह ने अपने प्राण त्यागे, तब उसी समय एक जलजला (भूकंप) आया था.
  3. कब्रों की कपाटें टूट कर खुल गए थे.
  4. पवित्र मंदिर का पर्दा ऊपर से नीचे तक फट गया था.

आश्चर्य जनक बात – यशु मसीह के साथ इतना सब हुआ फिर भी वो ठीक 3 दिन बाद यानिकी सन्डे के दिन दुबारा से जी उठे थे, जिसको की Easter Sunday हा जाता है.

दोस्तों यही वजह है की उस (why it is called good friday) शुक्रवार को गुड फ्राइडे क्यों बोला जाता है और इसाई धर्म के लोग इसको इतने श्रद्धा भाव से मनाते हैं.

आवश्य पढ़े

दोस्तों Good Friday in Hindi का यह लेख यही पर समाप्त हो रहा है, आशा है इस लेख में आपको रोचक जानकारियाँ मिली होंगी. आप चाहे तो इन जानकारी को अपने भाई-बहन, दोस्तों या किसी और के साथ फेसबुक, व्हाट्सअप, गूगल+ या किसी और सोशल साईट के माध्यम से शेयर कर सकते हैं.

About the author

Shikha Bhatt

Hello Viewers, this is Shikha Bhatt. I am an Entrepreneur and an internet marketer, In this site you will get many beauty tips and health tips and much more. For more information you guys can visit ABOUT ME page of this website. Thank You for Visiting here.

1 Comment

Leave a Comment