Motivational

Best Motivational short story in hindi (घडो की कहानी )

Motivational Stories in hindi

आज मै आपको real life inspirational stories in hindi सुनाओगी! यहाँ 2 घडो की कहानी तो चलिए शुरू करते है अपनी कहानी को !

एक बारी की बात है एक किसान तालाब से 2 घडो से पानी भर के अपने घर तक लेके आता था! लेकिन जब तक वो घर पहुँचता तब तक एक घड़े में तो पूरा पानी भरा रहता पर एक घड़े में सिर्फ आधा पानी रह जाता अब आप सोच रहे होंगे की ऐसे कैसे हो सकता है !तो ऐसा इसीलिए होता था क्युकी एक घड़े में एक छेद था जिस वजह से किसान जब तक घर पहुँचता तब तक घड़े में आधा पानी ही रह जाता था!

इस बात का घंमंड भरे पानी वाले मटके को था की मै तो किसान को पूरा पानी लाके देता हु लेकिन तू तो बेकार है निकम्मा है तू किसी काम के लायक नहीं है !

अब धीरे धीरे छेद वाले घड़े को अपनी कमियों का पता चला तो उसने सोचा की मै किसान से माफ़ी मांग लेता हु तो एक दिन उसने किसान को बोला की तुम मुझे फेक दो या मुझे नष्ट कर दो क्युकी मै हमेशा की तरह तुम्हे पूरा जल नहीं दे पता और शायद आगे भी न दे पाओ

यह बात सुनकर किसान बहुत दुखी हुआ उसने कहा ऐसा मत बोलो मेरे भाई तुम इतने निराशा में क्यू हो? क्या हुआ तुम्हे ? किसी ने कुछ कहा क्या ?

Inspirational story in hindi language

तो घड़े ने कहा की पूरा भरे वाले घड़े ने कहा की मै तुम्हे परेशान करता हु मै किसी भी काम के लायक नहीं हु! किसान ने कहा नहीं ऐसे मत बोलो चलो कल जब तालाब से पानी लेने जायेंगे तो तब मै तुम्हे कुछ दिखाऊंगा और समझोगे तब तक के लिए तुम निराश मत हो घड़ा बोला जैसा आप कहो मेरे मालिक!

अब सुबह हुई दोनों घड़े बड़े ही बेसब्री से इंतज़ार में थे की कब मालिक आये और कब हम तालाब जाये सबसे जायदा बेसब्री पूरा जल भरे हुए घड़े को थी अब किसान आया और दोनों घडो को कंधो पर रख कर तालाब की तरफ ले गया वहाँ जाकर जल भरा और छेद वाले मटके को बोला की अब तुम दुःख मत मनाओ सिर्फ रस्ते को देखते हुए जाओ!

छेद वाले घड़े ने अपने मालिक की बात मन कर रस्ते को देखा पुरे रस्ते वो खुश रहा लेकिन जैसे ही घर आया फिर उसे याद आया की फिर से पानी गिर गया और सिर्फ आधा रह गया !

अब किसान ने बोला की तुम फिर निराश हो गए तो घड़े ने बोला की फिर से पानी गिर गया न इसीलिए मै निराश हु! किसान ने बोला तुमने शायद ढंग से रास्ता नहीं देखा जितने भी फूल फल सब्जिया उस रस्ते पर लगे थे वो सब तुम्हारी वजह से है मुझे तुम्हारी इस कमी का पता था

इसीलिए उस रस्ते में मैंने बीज बो दिए और आज वो फल हम खाते है वो फूल हम भगवन को अर्पित करते है वो सब्जिया ही आज हम अपने घर में बनाते है तुमने रोजाना उनको थोड़ा थोड़ा पानी दे कर सींचा मै इसके लिए तुम्हारा शुक्र गुजार हु! दूसरे घड़े का घमंड चूर चूर हो गया

(inspiring short stories on positive attitude )मेरे दोस्तों कभी घमंड न करे कभी किसी की कमी को कमी न समझे कभी भी किसी को बेकार न समझे याद रखिये बेकार घडी भी दिन में 2 बारी सही समय दिखाती है! किसी की कमी कब उसकी शक्ति बन जाये!

आने वाले कुछ पोस्ट इन पर होंगे :-

inspirational moral stories for adults
inspirational short stories about life

motivational story in hindi for success

 

About the author

Shikha Bhatt

Hello Viewers, this is Shikha Bhatt. I am an Entrepreneur and an internet marketer, In this site you will get many beauty tips and health tips and much more. For more information you guys can visit ABOUT ME page of this website. Thank You for Visiting here.

Leave a Comment